गणतंत्र दिवस क्या है और ये 26 जनवरी को क्यों मनाया जाता है? …जानिए

देश में हम सभी 26 जनवरी को हर साल गणतंत्र दिवस बड़े ही धूमधाम से मनाते हैं। इस साल हम अपना 73वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। शायद आपके मन में ये सवाल आता हो कि आखिर गणतंत्र दिवस क्या है और ये 26 जनवरी को क्यों मनाया जाता है? तो आइए जानते हैं।

दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान
भारत को आज़ादी मिलने के बाद संविधान सभा का गठन हुआ था। संविधान सभा ने अपना काम 9 दिसंबर 1946 से शुरू किया। दुनिया के इस सबसे बड़े लिखित संविधान को तैयार करने में 2 साल, 11 माह, 18 दिन लग गए थे। संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को 26 नवंबर 1949 को भारत का संविधान सौंपा गया, इसलिए 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में हर साल मनाया जाता है।

परन्तु, 26 जनवरी को क्यों गणतंत्र दिवस मनाया जाता है?
26 जनवरी 1930 को पहली बार भारत का स्वतंत्रता दिवस मनाया गया था। 15 अगस्त 1947 को आजादी मिलने तक 26 जनवरी को ही स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता था। 26 जनवरी 1930 को पूर्ण स्वराज घोषित करने की तारीख को महत्व देने के लिए 26 जनवरी 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) (1935) को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया था। जिसके तहत भारत देश को एक लोकतांत्रिक, संप्रभु और पूर्ण गणतंत्र देश घोषित किया गया। इसलिए लिए हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

पहली बार कब मनाया गया गणतंत्र दिवस?
26 जनवरी 1950 को सुबह 10.18 बजे भारत एक गणतंत्र बना। इस के छह मिनट बाद 10.24 बजे डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। पहली बार बतौर राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद बग्गी पर बैठकर राष्ट्रपति भवन से निकले और बतौर राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने 21 तोपों की सलामी के साथ ध्वजारोहण किया था। इस दिन पहली बार उन्होंने भारतीय सैन्य बल की सलामी ली। पहली बार उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया गया।

READ:  करवाचौथ की शाम छलनी से क्यों देखते है चाँद को, ...जानिए महत्व और खास बातें